कंप्यूटर का आविष्कार किसने किया | Who Invented The Computer?

नमस्कार दोस्तों| आज हम आपके बीच एक और interesting topic लेकर आए हैं| आज हम आपको बताने वाले हैं कंप्यूटर के बारे में| जी हाँ, वही कंप्यूटर जिस पर आप इस वक्त हमारा article पढ़ रहे हैं| कंप्यूटर का आविष्कार किसने किया ये तो आप सब जानते ही होंगे| लेकिन आज हम कुछ हटकर बताने वाले हैं| आज हम आपको डिटेल में समझाएंगे की कंप्यूटर का आविष्कार किसने किया| Computer ka avishkar kisne kiya ये सवाल आपके मन में कभी ना कभी तो आया ही होगा| Computer ka avishkar kisne kiya ये सवाल आपने गूगल चाचा से भी पूछा होगा| गूगल ने अपने हिसाब से आपको बताया होगा की Computer Ka Avishkar Kisne Kiya| हो सकता है गूगल में जो आपको websites मिली हों, उनमे आसान भाषा में न बताया गया हो की Computer Ka Avishkar Kisne Kiya लेकिन हम आपको easy language में समझायेंगे की Computer Ka Avishkar Kisne Kiya| एक बार आपने हमारा article पढ़ लिया तो कभी भूल नहीं पाएंगे इस बात को की Computer Ka Avishkar Kisne Kiya| आज हम आपको बताने वाले हैं की Computer Ka Avishkar Kisne Kiya , कब किया और कैसे इसकी जरूरत पड़ी? Computer Ka Avishkar Kisne Kiya ये तो हम आपको बताएंगे ही, साथ ही ये भी बताएंगे कि कंप्यूटर कितने प्रकार के होते हैं? कंप्यूटर कौन सी भाषा समझता है ये भी हम आपको आज के article में बताने वाले हैं| चलिए शुरू से आपको समझाते हैं कि Computer Ka Avishkar Kisne Kiya ?

आज का युग विज्ञान का युग है| इस युग में computer इंसान की सबसे बड़ी जरूरत बन चूका है| इस लिहाज से आज के युग को अगर हम computer का युग कहें तो इसमें कोई हैरानी नहीं होगी| चाहे शिक्षा की बात हो या मनोरंजन की, यातायात की बात हो या चिकित्सा की, लगभग हर एक क्षेत्र में computer ने अपनी उपयोगिता को सिद्ध किया है| इसके बावजूद, computer से जुड़े कई ऐसे पहलू भी हैं जिनसे हम अभी तक अनजान ही हैं|

Computer Ka Avishkar Kisne Kiya | कंप्यूटर का आविष्कार किसने किया?

चार्ल्स बैबेज ने की शुरुआत

वो दौर था 18वीं सदी का| तकनीक किस चिड़िया का नाम है इसके बारे में पूरी दुनिया में कोई नहीं जानता था| अपनी आँखों से जो देखता था, इंसान बस उसी पर विशवास करता था| दूर दूर तक तकनीक से उस दुनिया के लोगों का कोई लेना देना नहीं था| तभी लंदन में पैदा हुए एक शख्स चार्ल्स बैबेज ने लोगों की इस सीमित सोच का दायरा बढ़ानी की ठान ली थी| चार्ल्स बैबेज को बचपन से ही गणित में रुचि थी| इसी रूची के चलते चार्ल्स बैबेज ने आगे चलकर computer का invention किया| चार्ल्स बैबेज ने ही 14 जून 1822 में Computer बनाने का दावा किया था| हालांकि बहुत से इतिहासकार इस बात से साफ़ इंकार करते हैं की चार्ल्स बैबेज ने ही computer का आविष्कार किया था| माना जाता है की चार्ल्स बैबेज computer machine बनाने में कामयाब रहे| लेकिन उस machine को वो पूरी तरह से नहीं बना पाए| शुरुआत में उन्होंने एक बेहद बड़े आकार की machine का आविष्कार किया था| इस मशीन को बनाने का मकसद था नंबरों की गणना करना| जिसके तहत उन्होंने इस मशीन का आविष्कार किया| उस वक्त चार्ल्स ने इस machine को Difference Engine का नाम दिया था| हालांकि ये मशीन सिर्फ गणना कर सकती थी| ये नहीं बता सकती थी की गणना ठीक है या नहीं| जो सिर्फ एक कंप्यूटर ही बता सकता है| इसीलिए कई विशेषज्ञों का computer के invention को लेकर अलग अलग मत है| खैर, चार्ल्स अपने इस आविष्कार से computer तकनीक की नीव तो रख ही चुके थे|

दोस्तों, आज हम आपको बता रहे हैं की Computer Ka Avishkar Kisne Kiya ? क्योंकि बहुत से ऐसे लोग भी होंगे जो इस बारे में नहीं जानते होंगे की Computer Ka Avishkar Kisne Kiya?

Konrad Zuse ने बधाई कहानी

18वीं शताब्दी के दौरान चार्ल्स बैबेज के इस तकनीक के बारे में जानने के लिए और उसे समझने के लिए लोगों में दिलचस्पी जगी| समय के साथ कई चीज़ों में बदलाव आ रहा था| फिर भी दुनिया के लोगों को अभी computer जैसी machine बनने का कोई अनुमान नहीं था| हालांकी विभिन्न देशों के वैज्ञानिक नई-नई मशीनों को खोजने में लगे हुए थे| तकनीक के इस युग में दूसरा सबसे बड़ा बदलाव तब आया जब Germany के वैज्ञानिक Konrad Zuse ने Programming Computer का आविष्कार कर दिया| ये 1936-1938 के बीच का दौर था|

Konrad Zuse का आविष्कार इसलिए भी काफी एहम था क्यूंकि उन्होंने पहले programming computer का आविष्कार किया था| चार्ल्स बैबेज की machine काफी हद तक इंसानी दिमाग पर निर्भर थी| लेकिन Konrad Zuse का कंप्यूटर खुद प्रोग्रामिंग से चलता था| Konrad Zuse ने इस Computer का नाम Z1 दिया|

एक बार फिर से हम आपको याद दिला दें की आज हम आपको जानकारी दे रहे हैं की Computer Ka Avishkar Kisne Kiya? क्यूंकी computer का हम सबकी लाइफ में बहुत महत्व है| इसलिए ये जानना जरूरी है की Computer Ka Avishkar Kisne Kiya? हो सकता है की Computer Ka Avishkar Kisne Kiya ये सवाल आपके कंप्यूटर से सम्बंधित एग्जाम जैसे PGDCA में भी आ जाए की Computer Ka Avishkar Kisne Kiya? तब आपको दूसरों की तरफ न देखना पड़े इसलिए हमारा आर्टिकल पढ़कर खुद को update कर लीजिए इस बारे में की Computer Ka Avishkar Kisne Kiya? बहुत हद तक मुमकिन है की competitive एग्जाम में भी ये question पूछ लिया जाए आपसे की Computer Ka Avishkar Kisne Kiya? अगर आपको पहले से पता रहेगा की Computer Ka Avishkar Kisne Kiya तो आप आसानी से इस question का answer कर पाएंगे की Computer Ka Avishkar Kisne Kiya?

Digital Computer ने बदली तस्वीर

Konrad Zuse के आविष्कार के बाद European देशों में नई क्रांति का संचार हो गया था| समय के साथ computer की मांग बढ़ती जा रही थी| Computer के आविष्कार ने बहुत से लोगों को प्रभावित किया| हजारों लोगों के काम को computer अकेला ही कर सकता था| जिन कामों को करने में बहुत ज्यादा समय लगा करता था वो काम अब चुटकियों में ही हो जाया करते थे| लाखों-करोड़ों रुपए का हिसाब करने में भी कंप्यूटर मात्र कुछ seconds ही लगता था| यही कारण है की यूरोपीय देशों के लोग computer की तरफ आकर्षित होने लगे| हालांकि उस समय लोगों ने यही सोच लिया था की Konrad Zuse ने जिस computer का आविष्कार किया है वही दुनिया में आख़री आधुनिक आविष्कार है| इन लोगों ने तो शायद कल्पना भी नहीं की होगी की इनहें इससे भी बेहतर कोई आविष्कार देखने को मिलेगा| खैर, समय तेज़ी से गुजरता गया और तकनीक की दुनिया में नित नए बदलाव आते रहे| हर नया बदलाव इंसान को चौंका देता है| उसको ये सोचने पर मजबूर कर देता है की विज्ञान बहुत ही तेज़ी से पूरी ही दुनिया पर अपना राज कायम कर रहा है|

मित्रों आज हम आपको पूरी जानकारी दे रहे हैं की Computer Ka Avishkar Kisne Kiya? इस article को अगर आपने ध्यान से पढ़ लिया तो आपको किसी और से पूछने की जरूरत नहीं है की Computer Ka Avishkar Kisne Kiya? आपको खुद ही पता चल जाएगा की Computer Ka Avishkar Kisne Kiya जब आप इस article को ध्यान से पढ़ेंगे|

J प्रेस्पर एकर्ट ने दिया Digital Computer

Konrad Zuse के आविष्कार के कई वर्षों बाद लोग तकनीक की दुनिया में एक नए आविष्कार के गवाह बने| जब J प्रेस्पर एकर्ट ने दुनिया को पहला इलेक्ट्रॉनिक Computer दिया| ये computer पूरी तरह से डिजिटल था| सबसे बड़ी बात ये थी की इस computer के बाद से ही हर एक electronic उपकरण digital form में आने लगा| वर्षों से उपयोग की जा रही सुई वाली घड़ी की जगह डिजिटल घड़ी ने ले ली| ये सब चीज़ें J प्रेस्पर एकर्ट के Digital Computer खोजने के बाद वजूद में आई थीं|

अब तक तो आप जान ही चुके होंगे दोस्तों की Computer Ka Avishkar Kisne Kiya? तो आप अपने दोस्तों के साथ भी इस जानकारी को share कर दें की Computer Ka Avishkar Kisne Kiya? क्यूंकी ज्ञान बांटने से बढ़ता है| अगर आप हमारी post को पढ़कर इसे आगे share नहीं करेंगे तो बाकी लोग जो ये नहीं जानते की Computer Ka Avishkar Kisne Kiya उन्हें अपने आप को update रखने में दिक्कत आएगी| अगर वो किसी और से पूछेंगे की Computer Ka Avishkar Kisne Kiya? तो हो सकता है कोई उन्हें गलत जानकारी दे दे की Computer Ka Avishkar Kisne Kiya? अब फिर से चलते हैं एकर्ट की दुनिया में और आपको बताते हैं आगे की कहानी|

एकर्ट ने digital computer की खोज वर्ष 1946 में की थी| J प्रेस्पर एकर्ट ने इसकी खोज अपने professor Jhon Mokli के साथ मिलकर की थी| Jhon Mokli ही एकेर्ट को विज्ञान पढ़ाया करते थे| दोनों ने digital computer की खोज के बाद इसे patent कराया| इसके साथ ही सरकार से digital computer बनाने का अनुबंध तय कर लिया| इसके तहत दोनों ने एक साथ मिल कर digital computer बनाना शुरू किया| दोनों ने इसे ENIAC नाम दिया| इसका Full Form इस प्रकार है : –

E – Electronic

N – Numeric

I – Integrator

A – And

C – Computer

Digital Computer ने पूरी दुनिया में तहलका मचा दिया| इस तरह एकर्ट और Mokli के आविष्कार के बाद computer को दुनिया में एक नई पहचान मिली| आगे चलकर digital कंप्यूटर की उपयोगिता को देखते हुए US Army ने इसका इस्तेमाल करना शुरू कर दिया था|

ECC बनी पहली कंप्यूटर कंपनी

हैरान कर देने वाली बात ये है दोस्तों की दुनिया के लोगों ने जिस मशीन के बारे में कभी नहीं सोचा था, वो मशीन एकर्ट और Mokli ने कुछ ही सालों की मेहनत के बाद बनाकर तैयार कर दी थी| संयुक्त रूप से बनाया गया computer उनकी सबसे बड़ी ताकत बन चुका था| Computer के आविष्कार के बाद सबसे मुश्किल काम था इसे बनाने का| उसमें भी सबसे मुश्किल काम था की ये पूरा फार्मूला किसी company को दिया जाए| फिर उस formula की मदद से कई Computer तैयार किए जाएं| दोनों ने ऐसा करना उचित नहीं समझा| इसलिए दोनों ने सयुंक्त रूप से अपनी ही computer Company खोलने का मन बना लिया था| दोनों ने digital computer बनाने की company खोली और खुद ही कंप्यूटर तैयार करना शुरू कर दिया| इस Company को नाम दिया गया ECC| इसका फुल फॉर्म इस प्रकार है : –

E – Electronics

C – Control

C – Company

दोस्तों हमने ठान लिया है की आपको इस बारे में बिलकुल सटीक जानकारी देंगे की Computer Ka Avishkar Kisne Kiya? क्यूंकी दोस्तों, हम चाहते हैं की हमारे आर्टिकल को पढ़कर आपको पूरी knowledge मिले इस बात की कि Computer Ka Avishkar Kisne Kiya? बहुत से लोगों को लगता है की Computer Ka Avishkar Kisne Kiya? इस सवाल का सिर्फ एक ही जवाब है चार्ल्स बैबेज| लेकिन Computer Ka Avishkar Kisne Kiya? इस सवाल का जवाब सही से हम देंगे आपको| ताकि आपके मन में कोई भी doubt न रहे इसे लेकर की Computer Ka Avishkar Kisne Kiya?

तो हम कहाँ थे| हम बात कर रहे थे आपसे ECC कंपनी के बारे में| ECC Company दुनिया की पहली Computer Company थी| हालांकि बाद में दोनों Company का नाम बदलकर अपने नाम पर रख लिया| Company खोलने के बाद दुनिया में computer जगत में क्रांति सी आ गई थी| ये दौर था 1950 का| जब लोग Computer के नाम से परिचित हो रहे थे| समय के साथ, एकर्ट ने computer को और भी ज्यादा विकसित करने के लिए नए नए आविष्कार किए| Digital Computer के आविष्कार के बाद उन्होंने Computer की दुनिया में 85 आविष्कार किए| इन आविष्कारों को दोनों ने अपने नाम से ही patent भी करवाया था| विज्ञान के क्षेत्र में उनके योगदान को देखते हुए उन्हें 1968 में ‘National Award Of Science’ पुरस्कार देकर सम्मानित किया गया| समय के साथ computer की डिमांड भी बढ़ गई है| आज computer हमारे जीवन का एक अभिन्न अंग बन चुका है| वैसे जिस रफ़्तार से लोग कंप्यूटर की demand करने लगे हैं, इसे देखते हुए एक बात तो साफ़ है| बहुत ही जल्द शायद ही कोई ऐसा घर होगा जहां computer का इस्तेमाल न होता हो|

साथियों, अभी आपने जाना की Computer Ki Khoj Kisne Ki| Computer Ki Khoj Kisne Ki इस बारे में अलग अलग लोगों के अलग अलग मत हैं| Computer Ki Khoj Kisne Ki जब ये सवाल हम गूगल पर डालते हैं तो हमारे सामने कई सारे link आते हैं| उनमें से किसी में बताया है की कंप्यूटर की खोज चार्ल्स बैबेज ने की है तो किसी में कुछ और information दी गई है| लेकिन Computer Ki Khoj Kisne Ki इस बारे में हमने जो information आपको दी है वो बिलकुल सटीक है| Computer Ki Khoj Kisne Ki हमने आपको इसकी पूरी जानकारी दे दी है| Computer Ki Khoj Kisne Ki ये जानने के बाद अब बारी है ये जानने की कि कंप्यूटर कितने प्रकार के होते हैं?

Types Of Computer

चलिए दोस्तों, अब आपको बताते हैं की computer कितने प्रकार के होते हैं|

Micro Computer : इसका विकास 1970 में किया गया था| इस Computer का आकार छोटा होता है| इसे एक briefcase या desk पर भी रखा जा सकता है| जिसका आकार छोटा होता है उसे ही Micro Computer कहा जाता है| क्योंकि इस computer का इस्तेमाल पर्सनल काम के लिए भी किया जाता है इसलिए इसे Personal Computer या PC भी कहते हैं| इस computer का इस्तेमाल बड़े business में filing और word processing के लिए भी किया जाता है| छोटे business में accounting के लिए भी किया जाता है| इसके साथ ही इसका इस्तेमाल entertainment के लिए भी किया जाता है| जो computer हम इस्तेमाल करते हैं चाहे वो laptop हो या desktop हो, वो personal computer ही होता है|

Mini Computer

दोस्तों, इसका आकार मिनी कंप्यूटर से बड़ा और mainframe computer से छोटा होता है| इस computer में एक से अधिक CPU होते हैं| स्पीड की बात करें तो मिनी कंप्यूटर की स्पीड Mainframe Computer से कम होती है और माइक्रो कंप्यूटर से अधिक होती है| इसकी खासियत ये है की इसपर एक ही समय पर एक से ज्यादा लोग काम कर सकते हैं| ये computer medium size के होते हैं इसलिए इसे पर्सनल रूप से खरीदा नहीं जा सकता है| इस computer का इस्तेमाल बड़ी बड़ी कंपनियों में, यातायात में यात्रियों के आरक्षण (Reservation) के लिए, सरकारी दफ्तरों में, बैंकों में बैंकिंग के कार्य के लिए किया जा सकता है| DEC यानी Digital Equipment Corporation ने 1965 में जो सबसे पहला मिनी कंप्यूटर तैयार किया था उसका नाम PDP 8 था| इसकी कीमत थी करीब 18 हजार dollar| ये कंप्यूटर एक refrigerator के आकार का था|

एक बात तो माननी पड़ेगी दोस्तों, Computer Ka Avishkar Kisne Kiya इस बात को लेकर बहुत सरे वैज्ञानिकों को doubt रहता है| Computer Ka Avishkar Kisne Kiya इसे लेकर बहुत से वैज्ञानिक थोड़ा सा confused रहते हैं| लेकिन हम आपके दिमाग में knowledge का injection लगाकर रहेंगे और आपको ये समझाकर रहेंगे की Computer Ka Avishkar Kisne Kiya? क्यूंकी ये जानना आपके लिए बेहद जरूरी है|

Workstation

दोस्तों, ये भी एक प्रकार का computer है जो कि desktop publishing, engineering applications, software development और दूसरी इसी तरह की applications के लिए इस्तेमाल किया जाता है| इसके लिए ज्यादा कंप्यूटिंग पावर और high quality ग्राफिक्स की जरूरत पड़ती है| Workstations आमतौर पर एक large high रेसोलुशन graphic स्क्रीन, large amount of RAM, Inbuilt Network Support और Graphical User Interface के साथ आते हैं| Commonly workstations में Unix और Window Anti Operating System इस्तेमाल किया जाता है| Workstations एक single user computer होते हैं| जिस प्रकार हमारा PC सिंगल user computer होता है| उसे एक टाइम पर एक ही आदमी operate कर सकता है| वैसे ही एक समय में workstation को एक ही आदमी चला सकता है| फर्क सिर्फ इतना है की ये workstation एक local area network से कनेक्टेड होते हैं|

दोस्तों आपने कभी अगर computer से related कोई quiz खेला होगा तो उसमे भी आपको ये सवाल तो पूछा ही गया होगा की Computer Ka Avishkar Kisne Kiya? क्यूंकि Computer Ka Avishkar Kisne Kiya ये सवाल जितना आसान दीखता है उतना जवाब देने के लिहाज़ से आसान है नहीं|

Mainframe Computer

साथियों, Mainframe Computer की Processing power Mini Computer से ज्यादा होती है| ये computer साइज में भी बड़े होते हैं| इस computer में data को fast speed से process करने की capicity सबसे ज्यादा होती है| यही कारण है की बड़ी बड़ी कंपनियों में, सरकारी departments में, banks में, Mainframe Computer का इस्तेमाल Central Computer के रूप में किया जाता है| इसकी खासियत ये है की इस computer पर एक साथ हजारों लोग 24 घंटे अलग अलग काम कर सकते हैं| इसे एक micro computer या नेटवर्क से जोड़ा जा सकता है| IBM 4391, ICL 39 Series और CDC Cyber Series ये सब कुछ Mainframe Computer के नाम हैं|

Super Computer

Super Computer एक ऐसा special कंप्यूटर है जो की आम इस्तेमाल किए जाने वाले computer की तुलना में बहुत ही high level की computing और calculation perform कर सकता है| यही कारण है की Super Computer को कहा जाता है जो किसी भी समय में सभी available computer system की तुलना में सबसे तेज़ और powerful होता है| इस computer को वहां पर काम में लिया जाता है जहां बहुत ज्यादा power और fast processing के साथ real time टास्क perform करने होते हैं| शुरुआत में Super Computer को scientific और engineering applications जिनमें बहुत ही ज्यादा बड़े डेटाबेस और high level computation की जरूरत होती थी वहां पर काम में लिया जाता था| अगर Super Computer की स्पीड और इसकी memory की बात की जाए तो ये exceptional होती है| ये computer किसी भी काम को उस generation के किसी भी कंप्यूटर की तुलना में बहुत ही ज्यादा fast perform कर सकते हैं| ये ordinary पर्सनल कंप्यूटर के मुकाबले हजारों गुना fast speed से टास्क को perform करते हैं| सुपर कम्यूटर Arche medic calculation बहुत तेज़ी से perform कर सकते हैं, इसलिए इसे weather forecasting, code breaking, genetic analysis और दूसरे वो काम जहां पर कैलकुलेशन ज्यादा होती है वहां पर use में लाया जाता है| Super Computer जितना फ़ास्ट होता है उतना ही ज्यादा expensive यानी महंगा भी होता है| इसलिए Super Computer को बनाना और इनका इस्तेमाल करना इतना आसान नहीं होता है| Super Computer को वहीं पर काम में लिया जाता है जहां पर specialized application को इनकी जरूरत होती है| 

जैसे की Quantum Mechanics, Climate Research, आयल एंड Gas Exploration, Molecular Modeling, Animation Graphic, Flute Dynamic Calculation, Nuclear Energy Research ओर Petroleum Exploration etc.| ज्यादातर Model Super Computer Linux Operating System को ही use करते हैं| जिसमें हर manufacturer अपनी requirement के according operating सिस्टम को change कर लेते हैं|

हम यकीन से कह सकते हैं दोस्तों की Computer Ka Avishkar Kisne Kiya ये सवाल तो अब आपके सपने में भी जरूर आएगा| चाहे दिन का सपना हो या रात का सपना हो आपको यही नजर आएगा की कोई आपसे पूछ रहा है Computer Ka Avishkar Kisne Kiya और आप उसका जवाब दे रहे हैं| क्यों सही कहा न फ्रेंड्स ?

इसके साथ यदि आपको computer network के बारे में जानकारी चाहिए तो आप router in computer network पढ़ सकते हैं

निष्कर्ष : (Conclusion)

दोस्तों, आज आपको हमने बताया कि Computer Ka Avishkar Kisne Kiya| Computer Ka Avishkar Kisne Kiya इस सवाल का जवाब देने के साथ साथ हमने आपको ये भी बताया कि चार्ल्स बैबेज के अलावा किस किस ने computer का विकास और आविष्कार किया? उम्मीद करते हैं कि कंप्यूटर का आविष्कार किसने किया ये बात आपको अच्छे से समझ में आ गई होगी| Computer Ka Avishkar Kisne Kiya ये question अब आपको गूगल पर नहीं search करना पड़ेगा| क्यूंकी हमने आपको डिटेल में समझा दिया है की कंप्यूटर का आविष्कार किसने किया? हो सकता है आप में से कुछ लोग इस बात को न जानते हों की कंप्यूटर का आविष्कार किसने किया| लेकिन हमारा आर्टिकल पढ़ने के बाद उन्हें भी समझ आ गया होगा की Computer Ka Avishkar Kisne Kiya| अगर आपको अच्छे से, detail में समझ आ गया है की Computer Ka Avishkar Kisne Kiya तो आप हमारे article को अपने दोस्तों और रिश्तेदारों तथा सोशल मीडिया में जरूर share करिएगा| जिससे उन्हें भी अच्छे से समझ में आजाए Computer Ka Avishkar Kisne Kiya| आपसे फिर मिलेंगे एक नई जानकारी के साथ|

BEST MOBILE PHONE UNDER 20000 RS.

Related articles

Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest articles

How To Increase RBC Count: जानिए लाल रक्त कोशिकाएं या Red Blood Cells क्यों हैं हमारी सेहत का रामबाण

Hello Friends, कैसे हैं आप सब| आज हम आपके साथ जो topic discuss करने वाले हैं वो है How To Increase...

जानिए कैसे Use कर सकते हैं Unwanted 72, महिलाओं के लिए कैसे है फायदेमंद?

हमारी website पर आप सभी का स्वागत है| Friends आज हम आपको Unwanted 72 Tablet Uses In Hindi में बताने वाले...

Sex Problem से मिलेगा छुटकारा, एक बार अपनाएं ये Top 3 सैक्स पावर Capsule, सैक्स लाइफ होगी आसान

नमस्कार दोस्तों| आज हम एक बहुत ही ख़ास विषय के बारे में आपको जानकारी देने वाले हैं जो है सैक्स पावर...

How To See Hidden Files in Windows 10

हमारी website पर आप सभी का स्वागत है| आज हम आपको बताने वाले हैं How To See Hidden Files in Windows...

Vishva Ka Sabse Bada Bandh

Hello दोस्तों| कैसे हैं आप सब? आज हम आपको बताने वाले हैं Vishva Ka Sabse Bada Bandh कौन सा है| अगर...

Newsletter

Subscribe to stay updated.